नरेला  : P24 News ने बचाई ठंढ में ठिठुरते व्यक्ति की जान ....... दिल्ली रैन बसेरा ............

दिल्ली यानि मुख्यमंत्री केजरीवाल, जो खुद को आम आदमी की सरकार बताते हैं , आम आदमी की ठिठुरती हुई हालत तो आप देख चुके अब ये सोचिये की जिस रेन बसेरों की बात केजरीवाल और उनकी पार्टी करती हैं , लाखों करोड़ो खर्चती हैं और खुद को गरीबों आ हितैसी बताती हैं , उसी केजरीवाल सरकार के दावों की जमीनी हकीकत थी यह। कहाँ हैं रेन बसेरे , कहाँ हैं केजरीवाल के वादों की जमीनी सच्चाई, और कहाँ हैं आम गरीब आदमी की सुविधाएं। ये आप सोचिये और सवाल कीजिए।

नरेला  : P24 News ने बचाई ठंढ में ठिठुरते व्यक्ति की जान ....... दिल्ली रैन बसेरा ............

  कंपकंपा देने वाली सर्दी में जहाँ आपको बाहर की हवा में सांस लेने में भी ठिठुरन महसूस हो रही होगी वही कुछ लोग ऐसे भी हैं जो सुविधाओं के अभाव में फुटपाथ पर, सड़क के किनारे दिन गुजारते हुए मौत का इंतजार कर रहे हैं। इस दौर में मिडिया जिसपे तमाम तरह के सवाल उठते हैं , जिसपे जनता हर तरह के लांछन लगाती हैं , लेकिन मीडिआ तो मिडिया है, मानवता को जिन्दा रखने में, उस तक सुविधाओं को पहुंचाने में यही मीडिया हैं जो आँख और कान बनती है।बात करते हैं बाहरी दिल्ली के नरेला की , तो यहां सड़क के किनारे लगभग पांच दिनों से एक व्यक्ति कड़कड़ाती ठंढ में पड़ा था। ख़बरों और समस्याओं तक सबसे तेज पहुंचने वाले P24 न्यूज़ की टीम जब वहां से गुजरा तो उसकी उसपर नजर पड़ी.. हमारे सहयोगियों ने उसकी दयनीय हालात को देखते हुए तुरंत एम्बुलेंस बुलवाया और उसे अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल उसकी हालत ठीक बताई जा रही है।  ये तो थी समस्या और उसका हमारी तरफ से जितना हो सकता किया जाने वाला समाधान।  अब आते हैं सरकारी तंत्र और प्रशासन पर।  ये बाहरी दिल्ली का नरेला हैं।  दिल्ली यानि मुख्यमंत्री केजरीवाल, जो खुद को आम आदमी की सरकार बताते हैं , आम आदमी की ठिठुरती हुई हालत तो आप देख चुके अब ये सोचिये की जिस रेन बसेरों की बात केजरीवाल और उनकी पार्टी करती हैं , लाखों करोड़ो खर्चती हैं और खुद को गरीबों आ हितैसी बताती हैं , उसी केजरीवाल सरकार के दावों की जमीनी हकीकत थी यह।  कहाँ हैं रेन बसेरे , कहाँ हैं केजरीवाल के वादों की जमीनी सच्चाई, और कहाँ हैं आम गरीब आदमी की सुविधाएं। ये आप सोचिये और सवाल कीजिए।