मथुरा में शहीद स्मारक पर नगर निगम ओर प्रशासन ने की तोड़फोड़

मथुरा हाईवे क्षेत्र में शहीद स्मारक के नगर निगम कर्मचारी ओर प्रसासन ने सहीद स्थल पर की तोड़फोड़ सहीद के परिजन आये जे सी बी के आगे मगर शहीद के परिजनों के दर्द को नही सुना नगर निगम ने करते रहे कार्यवाही जबकि सहीद के दाह संस्कार में शामिल हुए थे मंत्री और अधिकारी उसके बावजूद भी नही सुनी सहीद के परिवार की पुकार

मथुरा में शहीद स्मारक पर नगर निगम ओर प्रशासन ने की तोड़फोड़

मथुरा (मदन सारस्वत) || मथुरा हाईवे क्षेत्र में शहीद स्मारक के नगर निगम कर्मचारी ओर प्रसासन ने सहीद स्थल पर की तोड़फोड़ सहीद के परिजन आये जे सी बी के आगे मगर शहीद के परिजनों के दर्द को नही सुना नगर निगम ने करते रहे कार्यवाही जबकि सहीद के दाह संस्कार में शामिल हुए थे मंत्री और अधिकारी उसके बावजूद भी नही सुनी सहीद के परिवार की पुकार  जबकि मथुरा हाईवे क्षेत्र में शहीद स्मारक का स्थान शहीद के परिजनों ने पोखर की जगह पर बना रखा था जिसमे आज नगर निगम कर्मचारी और थाना हाईवे पुलिस प्रशासन ने jcb से स्मारक को तोड़ दिया गया 

जबकि लांसनायक शहीद शिव कुमार की म्रत्यु एक्सीडेंट के कारण हुई थी  मग़र शहीद शिव कुमार की श्रधांजलि में मंत्री और मथुरा प्रसासन भी हुआ था शामिल शहीद के परिजनों ने मथुरा प्रसाशन और केबिनेट लक्ष्मीनारायण मंत्री पर भी लगाए आरोप कहा कि श्रद्धांजलि जब देने आए थे उनके सामने दाह संस्कार हुआ था और शहीद स्मारक बनाने का उनका वादा था जब हम उसी जगह पर स्मारक बना रहे हैं तो नगर निगम ने बगैर नोटिस दिए आज आकर तोड़फोड़ की कार्यवाही की है यह सीधा हमारे शहीद का अपमान है

क्या मथुरा नगर निगम ओर प्रशासन  इसी तरह से शहीदों को अपमानित करता रहेगा या कभी शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि भी देगा उनके स्मारकों को बनाने के लिए जगह देने के बाद मुकरना नगर निगम के शायद एक नियति बन चुका है जब सभी मंत्री और प्रशासनिक अधिकारियों के सामने इस जगह को शहीद स्मारक घोषित किया था तो आज नगर निगम ने तोड़फोड़ कार्यवाही क्यों की क्या हमारे सहीद को थोड़ी सी जगह नही मिल सकती जबकि सहीद की पत्नी भी चीख चीख कर प्रसासन और नेताओं को कोस रही थी

कि सहीद का अपमान किया जा रहा है यही सरकार का काम है प्रसासन और नेता क्यो चुप है दूसरी तरफ जातिवाद को लेकर भी इस बात को कहा कि ये सिर्फ इसलिये तोड़ा गया है जबकि ये पोखर है जो किसी प्रयोग में नही  प्रशासन से मांग करते हैं कि हमारे शहीद भाई के लिए थोड़ी सी जमीन दे दी जाए जिससे हम सहीद का शहीद स्थल बनवा सकें हमारी जगह को घेरने की कोई मंशा नहीं है