चरखी दादरी में नकल की शिकायत की तो अध्यापकों को कर दिया ड्यूटी से रिलीव

जिले के एक परीक्षा केंद्र पर तैनात सुपरवाइजरों द्वारा नकल रोकने का प्रयास किया तो दो अध्यापकों को ड्यूटी से ही रिलीव कर दिया। रिलिव अध्यापकों द्वारा एक परीक्षा केंद्र में झुंड में बैठकर नकल करते बच्चों के फोटो लेकर उच्चाधिकारियों को शिकायत भेजी है। साथ ही शिक्षा अधिकारियों पर नकल माफिया को शह देने का भी आरोप लगाया है। वहीं शिक्षा विभाग ने इन बातों को नकार दिया है।

चरखी दादरी में नकल की शिकायत की तो अध्यापकों को कर दिया ड्यूटी से रिलीव

चरखी दादरी (प्रदीप साहू) || जिले के एक परीक्षा केंद्र पर तैनात सुपरवाइजरों द्वारा नकल रोकने का प्रयास किया तो दो अध्यापकों को ड्यूटी से ही रिलीव कर दिया। रिलिव अध्यापकों द्वारा एक परीक्षा केंद्र में झुंड में बैठकर नकल करते बच्चों के फोटो लेकर उच्चाधिकारियों को शिकायत भेजी है। साथ ही शिक्षा अधिकारियों पर नकल माफिया को शह देने का भी आरोप लगाया है। वहीं शिक्षा विभाग ने इन बातों को नकार दिया है।

बता दें कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की दसवीं व बारहवीं कक्षा की परीक्षाओं में वाट्सएप पर पेपर लीक लगातार हुए। वहीं दादरी के गांव मकड़ाना स्थित एक परीक्षा केंद्र पर नकल माफिया नेे सभी कानून व नियमों को धत्ता बताते हुए झुंड में बच्चों को बैठाकर नकल करवाई गई। इस दौरान परीक्षा केंद्र पर तैनात दो सुपरवाइजरों ने इसका विरोध किया तो उन्हें परीक्षा ड्यूटी से ही रिलीव कर दिया गया। परीक्षा ड्यूटी से रिलीव होने के बाद सुपरवाइजरों ने दस्तावेजों के साथ उच्चाधिकारियों को शिकायत पत्र भेजा है।

रिलिव किए सुपरवाइजर राजेश कुमार ने दस्तावेज दिखाते हुए बताया कि गांव मकड़ाना के परीक्षा केंद्र पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों की शह पर मास कॉपी करवाई गई। झुंड में बैठाकर बच्चों को नकल करवाई। इतना ही नहीं बल्कि ड्यूटी पर तैनात एक सुपरवाइजर द्वारा कमरे में नकल की पर्चियां भी बांटी। इस बात का विरोध किया तो उसे ड्यूटी से ही रिलीव कर दिया गया। हालांकि उन्होंने मास कॉपी बारे फोटोज के साथ उच्चाधिकारियों को वाट्यएप पर भी शिकायत पत्र भेजी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब उन्होंने इस संबंध में शिक्षा बोर्ड सचिव को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की है। साथ ही मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री को भी इस बारे पत्र भेजा गया है।
जिला शिक्षा अधिकारी रामौतार शर्मा से इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि जिले में शांतिपूर्ण तरीके से परीक्षाएं हुई हैं। गांव मकड़ाना के परीक्षा केंद्र पर झुंड में बैठकर मास कॉपी का कोई मामला उनके संज्ञान में नहीं है। झुंड में बैठकर नकल करने का अगर कोई मामला सामने आता है तो कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने शिक्षा अधिकारियों की शह पर नकल माफिया का साथ देने की बात को नकारते हुए कहा कि परीक्षाओं में किसी तरह की नकल नहीं होती।