बवाना में डीसीपी गौरव शर्मा ने कहा नीरज बवानिया जैसे टुच्चे बदमाशों से ना डरे ....

.दिल्ली पुलिस सप्ताह में लोगो ओर पुलिस के बीच मे हुआ स्वाद पुलिस आपकी सच्ची दोस्त है इसका साथ दें-ओर किसी से डरे भी नहीं,दिल्ली पुलिस हमेशा और हर वक्त आपके साथ खड़ी है ओर वही नीरज बवानिया जैसे बदमासो को टुच्चा बदमाश कहा कि टुच्चे बदमाशो से डरने की जरूरत नही पुलिस सदैव आपके साथ है

बवाना में डीसीपी गौरव शर्मा ने कहा नीरज बवानिया जैसे टुच्चे बदमाशों से ना डरे ....

बवाना (ब्यूरो रिपोर्ट) || पुलिस आपकी दोस्त हैं। दोस्त आपका साथ देगा और आप अपने दोस्त का साथ दो। दिल्ली पुलिस की हर समय कोशिश रहती है और उसकी प्राथमिकताओं में सबसे पहली प्राथमिकता दिल्लीवासियों की जान माल की सुरक्षा करना है। इसलिए वह किसी से नहीं डरें और अगर किसी डर लगता या फिर कोई आपको डराता है तो आप बिना किसी डर व हिचकिचाहट के अपने थाने में जाए। जहां पर पुलिस आपकी समस्या का समाधान करने के लिए हमेशा बैठी ह

बवाना पुलिस स्टेशन में आरडब्ल्यूए और एमडब्ल्यूए  के साथ मिलकर दिल्ली पुलिस वीक का आयोजन किया गया। जिसमें जिला पुलिस उपायुक्त गौरव शर्मा ने कहा कि उनके जिले में जितने भी बुजुर्ग रहते हैं। उनका ध्यान रखना उनकी प्राथमिकताओं में से एक है। उन्होंने कहा कि बवाना में नीरज बवानिया जैसे टुच्चे बदमाश जो लोगों को डरा धमकाकर उगाही आदी करते थे। वो अब तिहाड़ जेल में सलाखों के पीछे पड़े  हैं। वो बदमाश नहीं टूच्चे बदमाश हैं। उनसे डरने की कोई जरूरत नहीं हैं। पुलिस ने उनपर और उनके साथियों पर कानूनी तौर पर शिकंजा कसकर रखा हुआ है। लोगों से बदमाशों का डर खत्म करने के लिए वह थानास्तर पर पैट्रोलिंग,बेरिकेटस चैकिंग,सप्राईज चैकिंग के साथ साथ बाइक पैट्रोलिंग को बढ़ावा दे रहे हैं। जिससे कोई भी असमाजिक तत्व अपनी किसी वारदात को अंजाम देने में सफल नहीं हो पाए। उनकी टीम ने पिछले काफी समय से हथियारबंद बदमाशों और शराब तस्करों पर लगाम लगाते हुए दर्जनों बदमाशों को पकडक़र सलाखों के पीछे डाला हैं।

वही dcp गौरव शर्मा ने  लोगो को कहा कि आप सब लोग अपने घरों में रहकर ही अपने आसपास रहने वाले संदिगधों पर नजर रखे। कोई भी संदिगध गतिविधि होता देखकर तुरंत पुलिस को मामले की जानकारी दे। जिससे किसी बड़ी वारदात को होने से पहले ही टाला जा सके। आपकी हर एक सूचना को पूरी तरह से गुप्त रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि युवा नशे के आदी नहीं हो,वह सिर्फ पढ़ाई करे और अपने भविष्य की योजनाओं को देखते हुए पढ़ाई की तरफ ध्यान सबसे ज्यादा केन्द्रित करें।