गुरुग्राम में कोरोना की आड में चलाई जा रही सैनेटाइजर और मास्क की अवैध कंपनी

कोरोना वायरस के चलते शहर में अचानक बढ़ी मास्क व सैनिटाईजर की मांग को देखते हुए कालाबाजारियों ने इसमें खेल शुरू कर दिया लेकिन गुरूग्राम औषध विभाग की टीम ने ऐसे कालाबारियों पर कड़ी कार्यवाही करते हुए जहां शुक्रवार को लाखों की सख्यां में मास्क व सैनेटाईजर का स्टाक बरामद किया था

गुरुग्राम में कोरोना की आड में चलाई जा रही सैनेटाइजर और मास्क की अवैध कंपनी

गुरुग्राम (संजय खन्ना) || कोरोना वायरस के चलते शहर में अचानक बढ़ी मास्क व सैनिटाईजर की मांग को देखते हुए कालाबाजारियों ने इसमें खेल शुरू कर दिया लेकिन गुरूग्राम औषध विभाग की टीम ने ऐसे कालाबारियों पर कड़ी कार्यवाही करते हुए जहां शुक्रवार को लाखों की सख्यां में मास्क व सैनेटाईजर का स्टाक बरामद किया था वही बुधवार को मानेसर एरिया में रेड कर नकली सैनेटाईजर बनाने की कम्पनी का कार्यवाही करते हुए काफी मात्रा में निमार्ण सामग्री व सैनिटाईजर की खाली और भरी शीशी बरामद की है.....

जिला औषध अधिकारी अमनदीप चौहान ने बताया कि वरिष्ट औषधी अधिकारी रिपीन मेहता की अगुवाई में औषध अधिकारी दिनेश राणा के साथ मिलकर मानेसर एरिया में हाईटैक नामक कम्पनी पर रैड़ की गई। जहां पर करीब 3000 शीशी सैनिटाईजर की भरी हुई तथा करीब 7000 शीशी खाली मिली है। इस कम्पनी में सैनेटाईजर बनाने के इस्तेमाल में आने वाले कई कई बैरल भी बरामद किए गई है।

अमनदीप चौहान ने बताया टीम ने जब कम्पनी पर छापा मारा तो देखा की बाल्टीयों में टेप लगाकर शीशियों में भरा जा रहा है। जोकि सैनेटाईजर के निर्माण का बिल्कुल गलत तरीका है। इसके साथ ही इसके निर्माण में किसी भी तरह के मानकों का प्रयोग नही किया जा रहा था।

इसका निर्माण निधार्रित मशीनरी द्वारा टैक्निकल व्यक्ति की देखरेख में होना चाहिए । इसकी गुणवता जाचं के लिए कम्पनी परिसर में लैब भी होनी चाहिए ताकि ये सुनिश्चत हो सके की मार्किट में जाने वाले सैनेटाईटर की गुण्वतता सही है।  इस कम्पनी के पास किसी तरह का काई लाईसैंस नही पाया गया। इससे साफ है कि केवल मौके का फायदा उठा कर गलत तरीके से निमार्ण कर इस सैनेटाईजर को बेचा जा रहा था। विभाग की और मीडिया के माध्यम से लोगो को भी सचेत किया जाता है कि हाईटेक नामक इस कम्पनी का सैनेटाईजर ना खरीदे व ना ही बेचे।