गुरुग्राम : चंद सिक्को की खातिर दे रहे थे लिंग परीक्षण व भूर्ण हत्या जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम ....

वही सीएमओ गुरुग्राम की माने तो गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के बाद इनके तार फरीदाबाद ,गुरुग्राम और नोयडा से जुड़े होने की पुख्ता जानकारी के सुबूत मिले है....लेकिन अभी तक यह कितनी ऐसी शर्मनाक वारदातो को अंजाम दे लिंग परीक्षण या फिर भूर्ण हत्या के केसों को अंजाम दे चुके है यह खुलासा होना अभी बाकी है.....आपको बता दे कि 2014 से अभी तक जिला स्वस्थ विभाग की टीम ने 24 रेड को अंजाम दिया है जिसमे ज्यादातर मामले अदालतों में विचाराधीन है।

गुरुग्राम : चंद सिक्को की खातिर दे रहे थे लिंग परीक्षण व भूर्ण हत्या जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम ....

गुरुग्राम : चंद सिक्को में बिकता हो ईमान जहाँ कौन कहता ह मेरे देश मे महंगाई बहुत है"जी हां जिला स्वास्थ विभाग की टीम ने पैसे की लालच में भूर्ण हत्या जैसी शर्मनाक वारदात में लिप्त 3 लोगो को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया है....दरअसल जिला स्वास्थ्य विभाग की टीम को सेक्टर 15 के निजी अस्पताल में काम करने वाले लैब टेक्नीशियन सचिन के बारे में शिकायत मिली थी कि सचिन पैसों के लालच में अपने अन्य साथियों के साथ मिल गैर कानूनी तरीके से लिंग परीक्षण(भूर्ण हत्या)की वारदात को अंजाम देते आ रहे थे.....इसी मामले पर तीन का गठन कर कल तकरीबन 6 से 8 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद जिला स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रेड के दौरान सचिन व दो अन्य को मामले में पूछताछ में संदिग्ध पाए जाए के बाद गुरुग्राम के सिविल लाइन्स में मामला दर्ज करवाया जहाँ पुलिस ने डॉक्टर अनिल गुप्ता की शिकायत पर मामला दर्ज कर वारदात में शामिल 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर तफ़्तीश शुरू कर दी है...... वही रेड के दौरान डॉक्टर्स द्वारा बनाये गए वीडियो में भी कोख के इन कातिलों के चेहरों को बेनकाब जरूर किया गया....जिसमे आरोपी लैब टेक्नीशियन सचिन 50 हज़ार में लिंग परीक्षण जैसे गैर कानूनी धंधे से जुड़े होने की बात कुबुलता नज़र आ रहा है.....सीएमओ यानी जिला के मुख्य चिकित्सा अधिकारी जे एस पुनिया की माने तो फ़र्ज़ी ग्राहक जो कि सचिन के पास भेजा गया था से सचिन द्वारा 50 हज़ार ले उसे गुरुग्राम से आल्टो गाड़ी में नोयडा के लिए भेजा गया था... जहाँ इसमे जुड़े आरोपियों द्वारा गुरुग्राम से नोयडा तक के रास्ते मे कई बार गाड़िया तक चेंज की गई ताकि किसी को इनके ऊपर जरा सा शक न हो......वही सीएमओ की माने तो यूपी में पुलिस द्वारा इस वारदात का खुलासा होने पर सहयोग न किये जाने उपरांत गुरुग्राम के सिविल लाइन्स थाने में आरोपियों के खिलाफ शिकायत दी गयी जिसके बाद इनके खिलाफ मामला दर्ज कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है..वही सीएमओ गुरुग्राम की माने तो गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के बाद इनके तार फरीदाबाद ,गुरुग्राम और नोयडा से जुड़े होने की पुख्ता जानकारी के सुबूत मिले है....लेकिन अभी तक यह कितनी ऐसी शर्मनाक वारदातो को अंजाम दे लिंग परीक्षण या फिर भूर्ण हत्या के केसों को अंजाम दे चुके है यह खुलासा होना अभी बाकी है.....आपको बता दे कि 2014 से अभी तक जिला स्वस्थ विभाग की टीम ने 24 रेड को अंजाम दिया है जिसमे ज्यादातर मामले अदालतों में विचाराधीन है