अम्बाला : पंजाब के जालंधर-लुधियाना से हरियाणा परमिट के चलने वाली अधिकांश निजी बसें सरकार को लगा रही लाखों का चूना  ....

इसकी भनक लगने के बाद भी हरियाणा का ट्रांसपोर्ट विभाग कुम्भकर्णी नींद सोया नजर आ रहा है और इन अवैध बसों पर नकेल कसने की जगह उन्हें खुली छूट देता नजर आ रहा है ! हालाँकि कल हरियाणा के ट्रांसपोर्ट मंत्री मूल चंद शर्मा ने अचानक अंबाला आ कर इसका निरिक्षण भी किया और मीडिया के सवाल का जवाब देते स्पष्ट तौर पर कहा कि कोई भी अवैध और बिना परमिट की बस नहीं चलने दी जाएगी और जीएम और RTA इन पर शिकंजा कसेगी ! उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि दस दिन में ऐसी बसों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो सम्बंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे !

अम्बाला : पंजाब के जालंधर-लुधियाना से हरियाणा परमिट के चलने वाली अधिकांश निजी बसें सरकार को लगा रही लाखों का चूना  ....

हरियाणा अम्बाला सरकार ने अवर लोडिंग, बिना परमिट, बिना हरियाणा का टैक्स भरे वाहनों पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस और रीजिनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (RTA) अधिकारीयों को भारी तनख्वाह पर तैनात किया हुआ है ! इसी के साथ इनके ऊपर निगाह रखने के लिए सतर्कता विभाग सहित सीएम फ़्लाइंग स्टाफ का गठन भी किया गया है ! बावजूद इसके रोज़ाना पंजाब से बिना परमिट की 38 बसें धड़ल्ले से अंबाला में सवारियां लाने ले जाने में व्यस्त हैं और उपरोक्त विभाग के अधिकारी इन पर कार्रवाई की जगह आंखे मूंदे बैठे हैं आप अपने टी वीं स्क्रीन पर अंबाला कैंट फ्लाई ऑवर के नीचे पीली व हरे रंग की बिना परमिट वाली पंजाब की निजी बसों को सवारियां भरकर सरेआम सरपट दौड़ती देख सकते हैं ! लेकिन रीजिनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (RTA), इन पर शिकंजा नहीं कस पा रहे हैं या यूँ कहें इन बसों को सरपट दौड़ने में पर्दे के पीछे जानबूझ कर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं ! खास बात यह है कि जो 13 निजी पंजाब परमिट की बसें परमिट लेकर बस अड्डे से सवारी उठती हैं, वहीँ उसकी आड़ में सरेआम उसी समय अंबाला केंट फलाई ओवर के नीचे व शहर से बिना परमिट की एक-एक बस भी सवारियां ढोकर सरकार को टेक्स का चूना लगाने में लगी हैं  जहाँ से यह अवैध बसें सवारी उठती हैं वहीँ मात्रा दो गज पर पुलिस की जिप्सी खड़ी रहती है और इन्हे रोकने की जहमत नहीं उठती ! केंट बस अड्डा इंचार्ज विजेंद्र सिंह की माने तो उनके बस स्टेण्ड में बिना परमिट कोई निजी बस नहीं घुस सकती, केवल परमिट वाली बसें ही सवारी भरने के लिए अधिकृत हैं ! वहीँ उनका कहना है कि उनका काम केवल बस अड्डे में आने वाली सरकारी व परमिट वाली निजी बसों को देखने का है ! बिना परमिट पंजाब से आकर फ्लाई ऑवर के नीचे सवारी ढोने वाली ऐसी बसों पर नकेल कसने का काम रीजिनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (RTA) अधिकारीयों का हैं ! उनका कहना है कि वैसे तो उनकी तैनाती कैंट बस अड्डे पर बतौर अड्डा इंचार्ज अभी थोड़े समय से ही हुई है और परमिट वाली पंजाब की निजी बसें निर्धारित 13 टाइम पर ही आती और जाती हैं ! उन्होंने माना बाकी जो यह पंजाब की बिना परमिट वाली निजी बसें बाहर फ्लाई ओवर के नीचे से सवारियां भरकर निकलती हैं उन्हें ड्राइवर पुल के नीचे ही लगाते हैं, यह सब देखना RTA प्रशासन का काम है ! अड्डा इंचार्ज का कहना है पंजाब से बिना परमिट आने वाली बसों से सरकार को राजस्व का नुक्सान हो रहा है