फ़तेहाबाद मछली पालन विभाग से बड़े घोटाले का मामला आया सामने ....

मछली पालन के नाम पर लाखों रुपए की सबसिडी जारी कर सरकारी संपंति को नुकसान पहुंचाने का काम किया है। शिकायत मिलने के बाद सीएम फ्लाईंग टीम ने मामले की जांच की और उसके बाद पुलिस में शिकायत दी गई। शिकायत में साफ तौर पर कहा गया है कि जांच में उन्होंने पाया है कि अनुदान लेते समय जिन वस्तुओं के बिल दिखाए गए हैं वो उपकरण वहां नहीं पाए गए और लाभार्थियों ने फर्जी बिलों के सहारे तत्कालीन अधिकारियों के साथ मिलीभगत करके लाखों रुपए का गोलमाल किया गया है।

फ़तेहाबाद मछली पालन विभाग से बड़े घोटाले का मामला आया सामने ....

फतेहाबाद : मतस्य पालन विभाग में बड़ा घोटाला आया सामने, सीएम फ्लाइंग की सिफारिश पर विभाग के तत्कालीन उपनिदेशक जिला मत्स्य अधिकारी, फिशरी ऑफिसर तथा कनिष्ठ अभियंता सहित 18 लोगो के खिलाफ मामला दर्ज, बरवाला के गांव बर्की एक व्यक्ति ने दी थी शिकायत, फर्जी बिलों के सहारे लाखों रुपए की सब्सिडी जारी करने का है आरोप, मिलीभगत कर सरकार को लाखों रुपए चूना लगाने का है आरोप, शहर  पुलिस ने मुख्यमंत्री उडऩ दस्ते की सिफारिश पर शहर थाने में विभाग के अधिकारियों सहित डेढ दजऱ्न लोगो के विरुद्ध मामला हुआ दर्ज।मछली पालन विभाग फतेहाबाद में सबसिडी के नाम पर सरकार को लाखों रुपए चूना लगाने का मामला सामने आया है। सीएम स्क्वाईड की शिकायत पर विभाग के तीन अधिकारियों सहित 18 लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने इस मामले में जांच आरंभ कर दी है। मामले में शिकायतकर्ता बरवाला के गांव बर्की निवासी एक व्यक्ति ने शिकायत देते हुए आरोप लगाया था कि फतेहाबाद के मछली पालन विभाग में कार्यरत अधिकारियों ने मिलीभगत कर फर्जी बिलों के सहारे अनेक लोगों को मछली पालन के नाम पर लाखों रुपए की सबसिडी जारी कर सरकारी संपंति को नुकसान पहुंचाने का काम किया है। शिकायत मिलने के बाद सीएम फ्लाईंग टीम ने मामले की जांच की और उसके बाद पुलिस में शिकायत दी गई। शिकायत में साफ तौर पर कहा गया है कि जांच में उन्होंने पाया है कि अनुदान लेते समय जिन वस्तुओं के बिल दिखाए गए हैं वो उपकरण वहां नहीं पाए गए और लाभार्थियों ने फर्जी बिलों के सहारे तत्कालीन अधिकारियों के साथ मिलीभगत करके लाखों रुपए का गोलमाल किया गया है। फिलहाल पुलिस ने शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर लिया और मामले की जांच शुरु कर दी है।