मथुरा में कुम्भ को लेकर संतो ने की बैठक...

मथुरा धर्म रक्षा संघ एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के साधु संतों की एक बैठक चतु: संप्रदाय चार्य महंत श्री फूलडोल बिहारी दास जी महाराज की अध्यक्षता में सिंहपौर हनुमान मंदिर में आयोजित की गई।बैठक में वृन्दावन में होने वाले आगामी कुंभ मेले की व्यवस्थाओं पर विचार किया गया सभी वक्ताओं ने कुंभ मेले की प्रशासनिक स्तर पर अभी तक कोई तैयारी ना होने पर रोष व्यक्त किया |

मथुरा में कुम्भ को लेकर संतो ने की बैठक...

मथुरा (मदन सारस्वत) || मथुरा धर्म रक्षा संघ एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के साधु संतों की एक बैठक चतु: संप्रदाय चार्य महंत श्री फूलडोल बिहारी दास जी महाराज की अध्यक्षता में सिंहपौर हनुमान मंदिर में आयोजित की गई।बैठक में वृन्दावन में होने वाले आगामी कुंभ मेले की व्यवस्थाओं पर विचार किया गया सभी वक्ताओं ने कुंभ मेले की प्रशासनिक स्तर पर अभी तक कोई तैयारी ना होने पर रोष व्यक्त किया। बैठक में सभी संतो ने कुंभ मेले को संत समागम का नाम देने पर कड़ी आपत्ति जाहिर की और एक स्वर से कहा प्रशासन को अपनी गलती सुधारते हुए इसे कुंभ मेले का नाम देकर राजकीय मेले का दर्जा देना चाहिए,यह वास्तविकता में कुंभ मेला है न कि संत समागम।महंत रामस्वरूप ब्रह्मचारी जी ने कहा कि वृन्दावन के कुंभ मेला क्षेत्र की भूमि संरक्षित क्षेत्र घोषित हो जिससे भविष्य में बची हुई भूमि पर अतिक्रमण ना होने पाए और जल्द से जल्द कुंभ मेला की व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जायें।महंत लाड़ली दास जी महाराज ने कहा कि अब बहुत ही कम समय बचा है प्रशासन को मेला क्षेत्र में युद्ध स्तर पर कार्य करना चाहिए तभी समय से सारे कार्य पूर्ण हो सकेंगें और कुंभ मेला में किसी प्रकार का व्यवधान नहीं आएगा।

महंत मदन मोहन दास जी महाराज ने कहा कि यमुना नदी में पर्व के स्नान के दौरान शुद्ध निर्मल और अविरल जल की व्यवस्था होनी चाहिए जिससे सभी श्रद्धालु विशेष पर्व पर स्नान का लाभ उठा सकें।चतु: संप्रदाय महंत फूलडोल बिहारी दास जी महाराज ने कहा कि प्रशासन बातें तो बहुत लंबी करता है लेकिन धरातल पर अभी तक कोई कार्य दिखाई नहीं दे रहा है यदि ऐसा ही ढीला ढाला रवैया रहा तो कुंभ मेले के समय तक व्यवस्थाएं पूर्ण नहीं हो पाएंगी अतः प्रशासन को चाहिए इस मामले को गंभीरता से लें नहीं तो साधु-संतों को सड़क पर उतरना पड़ सकता है।कार्यक्रम के संयोजक महंत सुंदर दास जी महाराज ने कहा कि माला धारी चौराहे पर धोबी घाट हटाकर चौराहे का सौंदर्यीकरण होना चाहिए,साथ में स्थाई रुप से एक कुंभ द्वार वहां बनना चाहिए।धर्म रक्षा संघ के अध्यक्ष सौरभ गौर ने कुँभ मेले में संतके आदेश पर कार्य करने की बात कही और एक ज्ञापन बैठक में पधारे एडीएम श्री क्रांति शेखर सिंह जी को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें संतों की ओर से कुंभ मेला के विषय में अनेक मांग रखी गई हैं। बैठक में पधारे एसपी सिटी श्री उदय शंकर सिंह जी ने शासन की ओर से की जा रही पुलिस व्यवस्था की विस्तृत जानकारी दी और यमुना की सफाई में स्थानीय लोगों को जुटने का आह्वान किया।एडीएम श्री क्रांति शेखर सिंह ने आश्वासन दिया कि उन्होंने संतों  की सभी मांगों  को नोट करके उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाकर कुंभ मेला को आयोजित करने में संतो के द्वारा दी गई सलाह को प्राथमिकता देने की बात कही,उन्होंने कहा कि इस बार का कुंभ मेला इतना दिव्य और भव्य होगा जो इतिहास में याद किया जाएगा।कार्यक्रम का संचालन पुराणाचार्य डॉक्टर मनोज मोहन शास्त्री ने किया।धन्यवाद ज्ञापन करते हुए महंत सुंदर दास जी महाराज ने सभी का आभार व्यक्त किया।