मथुरा में कुम्भ स्थल की तैयारी हुई पूर्ण...

मथुरा वृन्दावन में लग रहे कुम्भ में नगर निगम ने की पूरी तैयारी और अपनी व्यवस्थाओ को पहनाया अमली जामा वही योगी जी के वृन्दावन में आने से पहले कुम्भ में एक ऐरावत भी बनाया मगर कुछ अपनी बातों को लेकर संत असंतुष्ट नजर आ रहे है ।

मथुरा  में कुम्भ स्थल की तैयारी हुई पूर्ण...

Mathura (Pawan Gupta) || मथुरा वृन्दावन में लग रहे कुम्भ में नगर निगम ने की पूरी तैयारी और अपनी व्यवस्थाओ को पहनाया अमली जामा वही योगी जी के वृन्दावन में आने से पहले कुम्भ में एक ऐरावत भी बनाया मगर कुछ अपनी बातों को लेकर संत असंतुष्ट नजर आ रहे है ।दरअसल कुम्भ अपनी पूरी तैयारी पर है जिसको लेकर प्रसासन कोई भी कसर नही छोड़ना चाहता क्यो की कुम्भ शुरू होने से पहले ही उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी जी कुम्भ में पधार रहे है जिससे प्रसासन अपनी तैयारी लगातार कर रहा है |

जिससे कि संतो के साथ साथ योगी जी भी इस तैयारी से संतुष्ट हो जाये जिस पर नगर निगम अधिकारियों का कहना है कि  कर्मचारियों से सफाई कार्य कराया जा रहा है 400 से अधिक और 300 यूरिनल की व्यवस्था की गई जबकि लाइट की व्यवस्था की गई वही नगर निगम गौ को लेकर भी चिंतित नजर आ रहा है इसलिए गौवंश कोभी कंट्रोल किया जा रहा है जबकि अगर उसके बाद भी अगर कोई नही मानता है तो पेनेल्टी भी लगाई जाएगी जबकि मोहिनी शरण महाराज का कहना है कि देवरहा घाट का अवलोकन करने योगी जी आ रहे है जबकि महाराज जी का कहना है कि जो पुरातत्व के  समय के घाट हैं उनको भी प्रशासन द्वारा अनदेखी किया गया है यह प्रशासन का अनदेखा पन है जबकि ध्वजारोहण 16 तारीख को है मगर योगी जी 2 दिन पहले कुंभ बैठक स्थल पर आ रहे हैं और प्रशासन को भी वह कार्य कराने चाहिए जो संतों की भावनाओं से जुड़े हुए हैं जबकि प्रशासन लगातार इस कार्य को लेकर सराहनीय कार्य कर रहा है जबकि योगी जी ने और जिलाधिकारी महोदय एवं पूरे प्रशासन ने सभी को अपनी अपनी जिम्मेदारी पूर्ण रूप से कार्य करने की दी है क्योंकि यमुना में लोग स्नान करेंगे उसके लिए पांच जगह पानी की सैंपलिंग कराई जा रही है जिससे शुद्ध जल मिल सके और संत एवं श्रद्धालु आचमन कर सकें वही इसको मुकेश इस कुंभ की शोभा बढ़ाने के लिए एक हाथी का निर्माण किया जा रहा है जिसमें एक हाथी बनाया जा रहा है भगवान कृष्ण उसकी दांत को तोड़ते हैं जबकि बलराम की मूर्ति हाथी की पूंछ पकड़ते हुए दिखाए जा रहे हैं यह अपने आप में उस समय की याद दिलाएगा जब एरावत से भगवान कृष्ण युद्ध करते हैं तो वही बलराम पूंछ पकड़कर ऐरावत को फेंकते  हैं इस पूरे कुंभ मेले की जो खूबसूरती है वह अपने आप में एक अलग ही नजारा प्रस्तुत करें इसको लेकर प्रशासन एड़ी चोटी का जोर लगा कर व्यवस्थाओं को कर रहे हैं ।