सरसों की फसल में रोग लगने से किसान चिंतित...

सरसों की फसल में फफूंदी व मरोडिय़ा आदि रोग लगने से इस बार पैदावार पर खासा असर पड़ सकता है। पिछले दिनों से लगातार बढ़ रही गर्मी व तापमान के चलते सरसों की फसल पर कई तरह के रोग लगने शुरू हो गए।

सरसों की फसल में रोग लगने से किसान चिंतित...

Charkhi Dadri (Pardeep Sahu) || सरसों की फसल में फफूंदी व मरोडिय़ा आदि रोग लगने से इस बार पैदावार पर खासा असर पड़ सकता है। पिछले दिनों से लगातार बढ़ रही गर्मी व तापमान के चलते सरसों की फसल पर कई तरह के रोग लगने शुरू हो गए। हालांकि कृषि विभाग ने फसल पर दवा का छिडक़ाव करने की सलाह दी है। साथ ही इस सबंध में कृषि अधिकारी लगातार इस मामले को लेकर गंभीर हैं।

बता दें कि इस समय तापमान में बढौतरी हो रही है और फसल पकने के कगार पर है। ज्यादा गर्मी पडऩे के कारण सरसों की फसल में फफंदी व मरोडिय़ा का रोग आ गया है। कई इलाकों में तो इन रोगों के कारण सरसों की फसल पर खासा असर पड़ा है। किसानों की मानें तो इन रोगों की चपेट में आने वाली सरसों की पैदावार कम होगी। वे अपनी फसल को लेकर काफी चिंतित भी हैं। किसान जितेंद्र, बलवान सिंह व जगबीर आदि ने बताया कि हर साल की भांति अपनी फसल की अच्छी पैदावार होने को लेकर उन्होंने अपनी सरसों की फसल की बिजाई की थी। लेकिन हाल फिलहाल सरसों की फसलों में आए फफूंदी मरोडिय़ा जैसे रोगों ने पैदावार पर खासा असर पड़ेगा। बताया कि उनकी फसल में पहले भी कई रोग लगे हुए हैं और एकदम ज्यादा गर्मी पडऩे से उनकी सरसों की फसल का दाना खराब हो गया। जिससे कि किसानों को काफी हुए नुकसान की मार झेलनी पड़ेगी।


कृषि अधिकारियों से राय लेकर दवा का छिडक़ाव करें
कृषि विभाग के एसडीओ डा. दलबीर सिंह ने बताया कि ज्यादा गर्मी पडऩे के कारण फफूंदी व मरोडिय़ा जैसे रोग सरसों की फसल पर लग जाते हैं। इस समय तापमान बढऩे से फसल पर खासा असर पड़ेगा। ऐसे में किसानों को कृषि अधिकारियों से सलाह लेकर दवा का छिडक़ाव करना चाहिए। वहीं विभाग की ओर से भी लगातार निरीक्षण किया जा रहा है। जहां इस तरह का प्रकोप की संभावना है, किसानों को जागरूक किया जा रहा है।