किसानों के ट्रैक्टर के सामने लेटे किसान नेता

कृषि बिल के विरोध में जहा किसान नेता राकेश टिकैत ने किसानों को अपनी अपनी फसलों को बर्बाद करने का आह्वान किया,तो वही दूसरी ओर दूसरे किसान नेता जी ने फ़सलो पर ट्रैक्टर चलाने आए किसानों के ट्रैक्टर के सामने लेट कर फसल बर्बाद करने से रोक दिया।जहाँ किसान फ़सलो को बर्बाद करने पर अड़े रहे वही दूसरी ओर किसान नेता उन्हें ऐसा करने से रोकते रहे।किसानो ने नेता जी ट्रक्टर के सामने से उठा कर हटाने की कोशिश भी लेकिन नेता जी ने फ़सलो पर ट्रेक्टर नही चलाने दिया।गौरतलब है कि किसान लगातार कृषि बिल के विरोध में अपनी खड़ी फ़सलो पर ट्रक्टर चला कर उसे विरोध स्वरूप बर्बाद कर रहे है।

किसानों के ट्रैक्टर के सामने लेटे किसान नेता

Rohtak (Harshvardhan) || कृषि बिल के विरोध में अपनी 21 एकड़ गेहू की फसल को ट्रेक्टर चला बर्बाद करने जा रहे किसानों को किसान नेता अनिल नांदल ने रोक लिया।किसान नेता किसानों के ट्रक्टर के सामने लेट गए और ट्रक्टरों को आगे नही बढ़ने दिया।हालांकि किसानों ने नेता जी को उठा कर हटाने के लाख प्रयास किए पर नेता जी नही माने।दरसल भारतीय किसान यूनियन (अम्बावता) के प्रदेश अध्यक्ष अनिल नांदल किसानों द्वारा फसल बर्बाद करने के खिलाफ है।आज रोहतक के बोहर गांव में किसान नेता को भनक लग गई के कुछ किसान अपनी 21 एकड़ गेहू की फसल पर ट्रक्टर चला उसे बर्बाद करना चाहते है।बस फिर क्या था नेता जी मौके पर पहुँच गए और किसानों के ट्रैक्टर के सामने लेट गए।किसान फसल को बर्बाद करने की ज़िद पर अड़े रहे तो किसान नेता उन्हें रोकते रहे।आखिर में किसान वापिस लौट गए।

वही दूसरी ओर किसानों ने कहा कि वो अपनी 21 एकड़ गेहू की फसल को विरोध स्वरूप बर्बाद करने आए थे लेकिन नेता जी ने रोक लिया फिर भी किसानो ने सरकार को चेतावनी दे डाली की आने वाले समय मे किसान अपनी फ़सलो को आग लगा देगा चाहे कुछ हो। वही किसान नेता अनिल नांदल ने कहा कि किसानों को फ़सलो को बर्बाद करने का तरीका गलत है।उन्होंने किसानो से आग्रह किया कि किसान अपनी फ़सलो को बर्बाद करने की बजाए उन्हें गरीबो में बाट दे ताकि सबका पेट भर सके।बता दे  कि  भारतीय किसान यूनियन (अम्बावता) के प्रदेश अध्यक्ष अनिल नांदल लगातार किसान आंदोलन में भाग ले रहे है।ओर आज उन्हें कहि से भनक लग गई के कुछ किसान अपनी फसल को बर्बाद करने जा रहे है।